Na jane saloon baad kaisa sama hoga

न जाने सालों बाद कैसा समां होगा,
हम सब दोस्तों में से कौन कहा होगा,
फिर अगर मिलना होगा तो मिलेंगे ख्वाबों मे,
जैसे सूखे गुलाब मिलते है किताबों मे.

Na jane saloon baad kaisa sama hoga,
Hum sab doston mei se kaun kaha hoga,
Phir agar milna hoga to milenge khwabon mai,
Jaise sukhe gulab milte hai kitabon mai.

Taqdir likhne wale ek ehsaan karde

तक़दीर लिखने वाले एक एहसान करदे,
मेरे दोस्त की तक़दीर मैं एक और मुस्कान लिख दे,
न मिले कभी दर्द उनको,
तू चाहे तो उसकी किस्मत मैं मेरी जान लिख दे.

Taqdir likhne wale ek ehsaan karde,
Mere dost ki taqdir mai ek aur muskan likh de,
Na mile kabi dard unko,
Tu chahe to uski kismat mai meri jaan likh de.

Dosti wo nahi hoti jo Jaan deti hai

दोस्ती वो नहीं जो जान देती है,
दोस्ती वो भी नहीं जो मुस्कान देती है,
अरे सच्ची दोस्ती तो वो है..
जो पानी में गिरा हुआ आंसू भी पहचान लेती है|

Dosti wo nahi hoti jo Jaan deti hai,
Dosti wo nahi hoti jo Muskaan deti hai,
asli dosti to wo hoti hai..
Jo pani me gira aansu bhi pehchan leti hai.