Rishte Khoon Ke Nahin Hote, Rishte Ehasaas Ke Hote Hain

रिश्ते खून के नहीं होते, रिश्ते एहसास के होते हैं;
एहसास हो तो अजनबी भी अपने होते हैं अगर;
और अगर एहसास ना हो तो अपने भी अजनबी हो जाते हैं।
rishte khoon ke nahin hote, rishte ehasaas ke hote hain;
ehasaas ho to ajanabee bhee apane hote hain agar;
aur agar ehasaas na ho to apane bhee ajanabee ho jaate hain.